Haryana General Knowledge – 03 Haryana GK English and Hindi pdf 2020

Haryana General Knowledge – 03 Haryana GK English and Hindi pdf 2020 Haryana current affairs Haryana news Haryana headlines

Haryana GK English and Hindi pdf हरियाणा की भौगोलिक स्थिति

हरियाणा भारत के उत्तर-पश्चिम में 27.39′ से 30.55′ उ. अक्षांश और 74.28′ से 77.36′ पू. रेखांश के मध्य स्थित है|
यमुना नदी वर्तमान हरियाणा की पूर्वी सीमा निर्धारित करके उत्तर प्रदेश से अलग करती है| पश्चिम में पंजाब और राजस्थान के भाग लगते हैं तो उत्तर के पंजाब का कुछ भाग तथा हिमाचल प्रदेश और शिवालिक की पहाड़ियां हैं| दक्षिण में राजस्थान प्रदेश और अरावली की पहाड़ियां हैं|
क्षेत्रफल-
44212 वर्ग किलोमीटर
नदियाँ-
पूर्व में यमुना, उत्तरी हरियाणा में सरस्वती (जो लुप्त हो गई थी और खुदाई जारी है), दृषद्वती, आपगा, तांगड़ी, मारकंडा, घग्गर, अशुमती और दक्षिण में साहबी, कसावती (कृष्णावती) दोहान, इन्द्रौरी|
वर्षा-
अधिकतम 216 सेंटीमीटर (शिवालिक की तलहटी में)
न्यूनतम-25-38 सेंटीमीटर (दक्षिणी हरियाणा में)
हरियाणा में मुख्यतः दो फसलें होती हैं|
1.रबी (असाढ़ी)-यह फसल सर्दी में होती है| अक्टूबर-नवम्बर में बोई जाती है और मार्च-अप्रैल में कटाई की जाती है| रबी फसल में गेंहू, जौ, चना, सरसों उगाये जाते हैं|
2. खरीफ (सावणी)-यह फसल वर्षा शुरू होने पर आमतौर पर मानसून सक्रिय होने पर जून-जुलाई में बोई जाती है और सर्दी की शुरुआत होने पर सितम्बर-अक्टूबर में काट ली जाती है| इसमें ज्वार, बाजरा, ग्वार, मूंग, मक्का, कपास आदि उगाये जाते हैं|
पानी की अच्छी उपलब्धता वाले क्षेत्रों में धान और गन्ना (ईख) भी उगाया जाता है|
पक्षी-
यूँ तो हरियाणा में स्थित पक्षी विहारों में कई
तरह के प्रवासी पक्षी आते हैं लेकिन यहाँ मिलने वाले प्रमुख पक्षियों में
कुञ्ज, कबूतर, कौआ, बतख, तोता, बुलबुल, गुरसल, घुग्गी, जंगली मैना, मोर,
मुर्गी, बाज, गीद्ध, बगुला, तीतर, काला तीतर, सोन-चिडी, नीलकंठ, गौरया,
डोमनी, काली चिड़िया, चमगादड़, उल्लू, आदि शामिल हैं| काला तीतर हरियाणा का
राज्य पक्षी है|
वनस्पति-
हरियाणा के शिवालिक क्षेत्र में चीड, केले, सिरस, कचनार, खैर, बियुल, जिंगन, अमलतास और बयल जैसे पेड़ पाए जाते हैं|
कालका-मोरनी क्षेत्र में जामुन, महुआ, बहेड़ा, तुन, अर्जुन आदि पेड़ पाए जाते हैं|
हरियाणा के मैदानी इलाकों में शीशम, नीम, सिरस, पीपल, बड, लेसवा (लासूडा), आम, जामुन, इमली, सौंहजना ,सेमल आदि पेड़ पाए जाते हैं|
दक्षिण पश्चिम के शुष्क और रेतीले इलाके में जांटी (खेजड़ी), कीकर, बेरी, फिरास, बबूल, जाल, नीम, पीपल, बड जैसे पेड़ और कैर, थूहर जैसी झाड़ियों के अलावा खींप, आक, सरकंडा आदि पौधे भी पाए जाते हैं|
पशु-
हरियाणा में हिरन, स्याहगोश, खरगोश, गीदड़, लोमड़ी, नीलगाय (रोझ), लंगूर, बन्दर आदि जंगली और गाय, भैंस, (मुर्राह भैंस हरियाणा की प्रमुख नस्ल है), बैल, ऊंट, घोडा, गधा, खच्चर, सूअर, भेड़, बकरी, कुत्ते, बिल्ली आदि पालतू जानवर पाए जाते हैं|
जीव-जंतु-
हरियाणा में मेंढक, भुज, कछुए, सांप (काला, गुराहडिया, बिसून्डिया, धामन, दोमुंही, सटक, पदम, चमेलिया, दबोइया, बिलान्दिया), गोहे, गुहेरी, छिपकली, गिरगिट, सांडा, बिच्छू, कनखिजूरा, गिलहरी, नेवला आदि सृसर्प व् अन्य जीव-जंतु मिलते हैं|
प्रश्न 01- हरियाणा के राज्य पक्षी का नाम बताएं।
उत्तर- काला तीतर।

प्रश्न 02 – वह कौन—सा प्रदेश है जिसके सभी पर्यटन स्थलों के नाम पक्षियों के नाम पर रखे गये हैं?
उत्तर- हरियाणा।

प्रश्न 03- हरियाणा में काला हिरण प्रजनन केन्द्र कहां है?
उत्तर- पीपली (कुरुक्षेत्र) में।

प्रश्न 04 – राष्ट्रीय उघान बोर्ड कहां स्थित है?
उत्तर- गुड़गांव (हरियाणा) में।

प्रश्न 05-सुल्तानपुर पक्षी विहार किस राज्य में स्थित है?
उत्तर-हरियाणा| 
खनिज के मामले में हरियाणा संपन्न नहीं है| दक्षिणी हरियाणा के महेंद्रगढ़ तथा रेवाड़ी जिलों में अवश्य कुछ खनिज जैसे- चूना पत्थर, बजरी, संगमरमर, स्लेट, स्फटिक, शीशा, ताम्बा, अभ्रक मिलते हैं| इसी प्रकार दादरी के गाँव कल्याणा में संगे लरजा (हिलना पत्थर) मिलता है और गुडगाँव में चीनी मिटटी मिलती है|

3 thoughts on “Haryana General Knowledge – 03 Haryana GK English and Hindi pdf 2020

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *